3,000 किलो खिचड़ी एक साथ पकाने का सफल महा आयोजन

0
1377

राष्ट्रीय खाद्यान्न घोषित करवाने और वर्ल्ड रेकॉर्ड में रेसिपी दर्ज कराने के लिए शेफ विष्णु मनोहर ने कर दिखाया

नागपुर : भारतीय खाद्य संस्कृति को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने एवं भारतीयों का लोकप्रिय खाद्य ‘खिचड़ी’ को भी “राष्ट्रीय खाद्यान्न” घोषित करवाने के उद्देश्य से रविवार, 14 अक्टूबर को यहां नागपुर में एक साथ 3,000 किलोग्राम खिचड़ी पकाने का विक्रमी उद्यम किया गया.

शेफ विष्णु मनोहर ने कर दिखाया यह विक्रम
स्थानीय महल क्षेत्र के चिटणीस पार्क स्टेडियम में प्रसिद्ध शेफ विष्णु मनोहर ने यह विक्रम कर दिखाया. इसके साथ ही देश में 80 प्रतिशत से अधिक लोगों की पसंद का खाद्य पदार्थ खिचड़ी की रेसिपी को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड, लिमका बुक ऑफ रेकॉर्ड, एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड, इंडिया बुक ऑफ रेकॉर्ड में दर्ज होने का मार्ग प्रशस्त हो गया.

5 परीक्षकों के समक्ष तैयार की गई खिचड़ी
विश्व खाद्य दिवस के निमित्त खिचड़ी को ‘राष्ट्र्रीय खाद्यान्न’ घोषित करने के उद्देश्य से एक साथ 3000 किलोग्राम खिचड़ी पकाने के लिए कोल्हापुर में विशाल कड़ाही तैयार करवाई गई थी. 53 घंटे नॉनस्टॉप कुकिंग के विश्वविक्रमी शेफ विष्णु मनोहर ने रविवार को सुबह 5.30 बजे से ही खिचड़ी की तैयारी शुरू कर दी थी. 5 परीक्षकों के समक्ष खिचड़ी बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई. 575 किलो दाल, 576 किलो दाल, 100 किलो शुद्ध घी, 108 किलो मसाले और 250 किलो विभिन्न सब्जियों को मिला कर पूरे 10 घंटे में 3,000 किलो खिचड़ी तैयार की गई.

केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने लिया पहला स्वाद
खिचड़ी का पहला स्वाद केंद्रीय भूतल परिवहन, जहाजरानी और जलसंपदा मंत्री नितिन गड़करी ने लिया. इस अवसर पर राज्य के ऊर्जा मंत्री और नागपुर जिले के पालक मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले भी उनके साथ थे. साथ ही मैत्री परिवार के अध्यक्ष प्रा. संजय भेंडे, प्रा. विजय शाहाकार, प्रमोद पेंडके, निरंजन वासेकर, विजय जथे, मिलिंद देशकर, राजीव जायसवाल सहित अनेक लोगों ने आयोजन में सहयोगार्थ उपस्थित थे.

बाद में खिचड़ी वहां उपस्थित अनाथालयों के बच्चों, अंध विद्यालय के विद्यार्थियों और उपस्थित सैकड़ों महिला-पुरुषों ने विष्णु मनोहर की खिचड़ी का स्वाद लिया.

NO COMMENTS