अयोध्या के 500 वर्ष पुराने मंदिर में हुआ ‘इफ्तार और नाम्माज’

0
2429

धार्मिक सौहार्द और सद्भाव वाले आयोजन में किसी नेता या वीआईपी को नहीं डाली गई घास

नई दिल्ली : अयोध्या में सोमवार की शाम धार्मिक एकता और सद्भाव का सुखद दर्शन हुआ. रमजान के अवसर पर रामजन्मभूमि के निकट यहां सरयू कुंज परिसर के एक 500 वर्ष पुराने मंदिर में इफ्तार और नमाज का आयोजन किया गया था. उल्लेखनीय यह है कि इस इफ्तार में किसी राजनीतिक व्यक्ति को अथवा किसी वीआईपी को घास नहीं डाला गया था. इसमें केवल स्थानीय सामान्य लोग ही निमंत्रित किए गए थे.

मीडिया ने नहीं दी खबर को तव्वजो
इस धार्मिक सौहार्द और सद्भाव वाली महत्वपूर्ण खबर को केवल कुछ ही अखबारों में ख़ास जगह मिली. इस इफ्तार में किसी नेता या वीआईपी को नहीं बुलाया गया था, संभवतः इसीलिए किसी न्यूज चैनल अथवा अधिसंख्य अखबारों ने इस महत्व की पहल को तव्वजो देना मुनासिब नहीं समझा.

कोई राजनीतिक उद्देश्य नहीं : महंत
सरयू कुंज के महंत जुगल किशोर शरण शास्त्री ने कहा कि ‘इफ्तार पार्टी के आयोजन के पीछे हमारा कोई राजनीतिक उद्देश्य नहीं था, हमने यह सपष्ट कर दिया है. अयोध्या से विश्व तक शान्ति का सन्देश पहुंचे, यह अधिक जरूरी है.

दोनों समाज के बीच पैदा हुई दूरी कम करने की जरूरत
उन्होंने कहाकि दोनों समाज के बीच पैदा हुई दूरी कम करने की जरूरत है. इफ्तार के आयोजन दोनों समाज के लोगों को निकट आने का अवसर मिलता है. महंत ने कहा कि हमने इसी उद्देश्य से शान्ति का संदेश देने का निर्णय किया.

मंदिर में पढ़ा गया नमाज भी
इस मंदिर में राम, सीता और ब्रह्मा की मूर्ति है. इफ्तार मंदिर परिस र में ही मुस्लिम बंधुओं ने नमाज भी आता की. उसके बाद प्रसिद्ध हनुमान गढ़ी से लाए जे लड्डू के प्रसाद भी उनके बीच वितरित किए गए. इससे पूर्व जातियता विरोधी सभा का भी आयोजन किया गया. इस आयोजन में दोनों समुदाय के कॉलेज के विद्यार्थी और शिक्षक भी शामिल हुए. अंत में सभी ने जातीय तनाव ख़त्म करने की शपथ भी ली.

हमने कभी भी असुरक्षित महसूस नहीं किया अयोध्या में : शायर मुजम्मिल
अयोध्या निवासी उर्दू शायर मुजम्मिल भी इस इफ्तार में शामिल हुए थे. उन्होंने कहा, “अयोध्या में अल्पसंख्यक होने के बावजूद हमने कभी भी असुरक्षित महसूस नहीं किया. इसके लिए हम अपने हिन्दू भाइयों को धन्यवाद देते हैं. उन्होंने कभी हमें अपनी हिफाजत के लिए फिक्रमंद नहीं होने दिया.”

NO COMMENTS