महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश में ओलावृष्टि, 9 मृत, बारिश से भारी तबाही

0
2179

कुल 9 लोगों की जान गई, अनेक जख्मी, फसलों को भी हुआ नुकसान

मुंबई : पिछले रविवार को मौसम में अचानक बदलाव से देश के कई हिस्‍सों के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है. बारिश व ओलावृष्टि के कारण जहां मध्‍यप्रदेश में 6 की मौत होने की खबर है और फसलों को नुकसान भी पहुंचा है, वहीं महाराष्ट्र के मराठवाड़ा और विदर्भ में भी रविवार को गिरे ओलों से 3 लोगों की मौत हो गई.

मौसम विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में एक-दो दिन खराब मौसम ऐसा ही रहने के आसार हैं. मौसम विभाग के मुताबिक ऊपरी हवा के चक्रवात से बने पश्चिमी विक्षोभ के कारण दो दिन पहले एक सिस्टम राजस्थान और एक विदर्भ में बनना शुरू हुआ था. जिसका असर उत्तर भारत में दिख रहा है.

महाराष्ट्र में तीन लोगों की मौत

महाराष्ट्र सरकार ने फसलों को हुए नुकसान का पता लगाने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं. रविवार को जलाना आसपास के जिलों में सुबह करीब 7.30 बजे ओले गिरना शुरू हुए और यह सिलसिला आधे घंटे तक चलता रहा. मेघगर्जना के साथ हुई बारिश के कारण गेहूं, चना, प्याज, आम, अंगूर आदि फसलों को भारी नुकसान हुआ है.

जालना जिले के 180 गांवों में तबाही

मिली खबरों के मुताबिक़ ओलों की चपेट में आकर जालना में दो आदमियों की और वाशिम में एक औरत की मौत हो गई. जालना के कलेक्टर शिवाजीराव जोंधले के मुताबिक, जिले के करीब 180 गांवों में ओले से फसलें तबाह हो गई हैं. किसानों ने बताया कि इस प्राकृतिक आपदा से चना, नारंगी, केला, ज्वार व अन्य फसलें तबाह हो गईं.

विदर्भ के अनेक जिलों में भी तबाही

विदर्भ के बुलढाणा, वाशिम, अमरावती जिलों में असमय बारिश कारण भारी नुक्सान की खबर है. वाशिम जिले में ओलावृष्टि से एक वृद्ध की और गोंदिया जिले में बिजली गिरने से विनोद कुसन गावडकर की मृत्यु हो गई. दोपहर में अचानक हुई ओलावृष्टि के कारण अनेक लोग गंभीर रूप से जखमी हो गए. अनेक जिलों में सुबह से ही आसमान पर घने बादल छाए हुए थे. इस कारण लोगों को दिन भर सूर्य के भी नहीं हुए.

पूर्व विदर्भ सहित अमरावती जिले के दर्यापुर, तहसील में भी वज्रपात से एक व्यक्ति की जान चली गई और 9 जख्मी हो गए. वरूड़ तहसील में वज्रपात से 7 मवेशियों की मौत हो गई. ओलावृष्टि से नुक्सान हुए ही, बारिश और तूफाली हवा के कारण अनेक पेड़ों के सड़कों पर धराशायी हो जाने के कारण यातायात में भी रुकावट आई.

बारिश किसानों पर रविवार की सुबह आफत बनकर आई बारिश

मध्‍य प्रदेश प्रदेश के दो दर्जन से ज्यादा जिलों के किसानों पर रविवार की सुबह आफत बनकर आई. तेज बारिश और ओलावृष्टि ने खेतों में पककर तैयार हो चुकी फसल को नुकसान पहुंचाया. कई मवेशियां मारी गई हैं. कई जगह 10 से 15 मिनट तक लगातार ओले गिरे. इसी दौरान आसमानी बिजली गिरने से छह लोगों की मौत हो गई. सर्दी का असर बढ़ गया है. मौसम विभाग के मुताबिक, ओले के असर वाले दोनों राज्यों में दो दिन तक मौसम साफ होने के आसार नहीं हैं.

NO COMMENTS