जयदेव केसरी डीआईजी सीआरपीएफ के पद पर पदोन्नत

0
566
जयदेव

नई दिल्ली : लगभग 28 वर्षों की विशिष्ट सेवा के बाद, वर्तमान में कमांडेंट (प्रशिक्षण) के रूप में सेवारत जयदेव केसरी को डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (डीआईजी) के पद पर पदोन्नत और सम्मानित किया गया. डीजी सीआरपीएफ कुलदीप सिंह, आईपीएस (IPS) ने नई दिल्ली में सीआरपीएफ मुख्यालय में आयोजित एक पाइपिंग समारोह में उन्हें यह सम्मान दिया.  
जयदेव
मूल रूप से बलिया (यूपी) में जन्मे और मिलिट्री स्कूल चैल शिमला (एचपी) के पूर्व छात्र; जयदेव केसरी ने दिल्ली विश्वविद्यालय से एमएससी (जूलॉजी) पूरा करने के बाद 15 जुलाई, 1993 को सीआरपीएफ में अधिकारी के रूप में कमीशन प्राप्त किया था. जयदेव केसरी वर्तमान में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) में तनाव प्रबंधन पर पीएच.डी कर रहे हैं’

अपनी लंबी और शानदार सेवा के दौरान, केसरी ने त्रिपुरा, पंजाब, असम, झारखंड, छत्तीसगढ़ और जम्मू-कश्मीर जैसे कुछ सबसे अशांत और अस्थिर उग्रवाद प्रवण क्षेत्रों में सेवा की और अपनी योग्यता साबित की.

करियर की कुछ उत्कृष्ट उपलब्धियां
– त्रिपुरा में कार्यकाल के दौरान उन्होंने 15 से अधिक कट्टर आतंकवादियों के आत्मसमर्पण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

– 5वीं बटालियन सीआरपीएफ क्यूएमएस और ईएमएस के दोहरे आईएसओ प्रमाणन के साथ एकमात्र बटालियन बन गई.

– डीजी असम पुलिस ने ऑपरेशन उपलब्धि के लिए अधिकारी को प्रशस्ति प्रमाण पत्र से सम्मानित किया.

– उनकी कमान में 5वीं बटालियन ने सर्वश्रेष्ठ प्रशासित बटालियन ट्रॉफी जीती

– उन्होंने कोसोवो में संयुक्त राष्ट्र मिशन में भी भाग लिया, जहाँ उन्हें संयुक्त राष्ट्र शांति पदक से सम्मानित किया गया.

– अधिकारी को आंतरिक सुरक्षा पदक, स्टार के साथ डीजी की गोल्डन डिस्क से सम्मानित किया गया है और लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया है.

आध्यात्मिक मनोवृत्ति और विचारधारा से सुसज्जित डीआईजी जयदेव केसरी ने प्रशिक्षण में एक लंबा कार्यकाल पूरा किया है – जो उनकी खूबी है. 53 साल की उम्र में भी वह अपने को फिट रखने में विश्वास रखते हैं और एक उत्साही मैराथन धावक हैं.

NO COMMENTS