हेलिकॉप्टर बनाने का सपना ऐसे पूरा कर रहा यह बिहारी

0
169
हेलिकॉप्टर

सीमा सिन्हा,
पटना (बिहार) :
बिहार के सारण जिले में रहने वाले एक 23 वर्षीय युवक ने एक पुरानी नैनो कार खरीद कर उसे हेलिकॉप्टर बना लिया. बनियापुर ब्लॉक के शरमी गांव का युवक मिथिलेश कुमार प्रसाद पेशे से प्लम्बर है. वह गुजरात में पाइपलाइन फिटर का काम करता है.

मिथिलेश पायलट बनना चाहता था. यह संभव नहीं हो पाया तो उसने अपनी कार को ही पंख लगाकर उसे हेलिकॉप्टरनुमा बना लिया. 9 महीने की कठिन मेहनत के बाद पंख लगाकर और कार में जोड़-तोड़ कर हेलिकॉप्टर सदृश्य तैयार करने में तो वह सफल हो गया. अब उसे उड़ाने जद्दोजहद में जुटा हुआ है. अपने इस सपने को पूरा करने के लिए अपनी कमाई की सारी बचत झोंक दी है.
हेलिकॉप्टर
गुजरात में प्लम्बर का करता है काम
मिथिलेश कुमार प्रसाद के पिता किसान हैं. मिथिलेस ने कहा कि वह बचपन से ही पायलट बनना चाहता था, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण यह सपना पूरा नहीं कर सका. वह गुजरात में प्लम्बर (पाइपलाइन फिटर) का काम करता है. मिथिलेश के इस काम में उसके भाई सुजीत ने भी साथ दिया. सुजीत ने सभी जरूरी तकनीकों को पढ़ा और कार को चॉपर बनाने में अपने भाई की मदद कर रहा है.

इस चॉपर का इंटीरियर लोहे का है जबकि बाहरी हिस्सा अल्युमिनियम का है. उन्होंने टेल रोटर, मुख्य रोटर ब्लेड, टेल बूम, रोटर मास्ट और कॉकपिट भी बनाया है. मिथिलेश ने बताया कि इन सबके अलावा उसने चॉपर में ट्रिप लाइटें, आरजीबी रिमोट कंट्रोल लाइटें भी रोटार ब्लेड और टेल रोटार में लगाईं हैं.

मिथिलेस ने पैसे बचाकर करके पिछले साल एक पुरानी टाटा नैनों कार खरीदी. फिर नैनो कार को चॉपर बनाने का काम नवंबर 2018 से शुरू किया. हालांकि मिथिलेश का हेलिकॉप्टर फिलहाल उड़ान नहीं भर सका है, लेकिन उसे भरोसा है कि जल्द ही उसकी कार चॉपर की तरह उड़ेगी. उसमें अभी और जोड़-तोड़ का काम चल रहा है.

गांव की स्कूल से इंटर तक पढ़ाई के बाद गुजरात में अपने भाइयों के साथ पाइप फिटर का काम कर उसने पैसे जमा किए. उसी पैसे से पुरानी नैनो कार खरीदी और पिछले वर्ष नवंबर से अपने भाई के साथ अपने सपने को साकार करने में लगा हुआ है.

भले ही मिथिलेश का यह हेलिकॉप्टर फिलहाल उड़ नहीं सकता, लेकिन उसकी इस क्रियेटिविटी की हर कोई दाद दे रहा है. यह हेलिकॉप्टरनुमा कार जिस रास्ते यह गुजरती है, उस रास्ते पर देखने वालों की भीड़ उमड़ पड़ती है.

NO COMMENTS