अमरावती हत्याकांड का 6ठा आरोपी उकसाने वाला, 7वां पकड़ से बाहर

0
458
अमरावती
अमरावती के केमिस्ट उमेश प्रह्लादराव कोहली, जिनकी 21 जून को हत्या कर दी गई थी. 

एनआईए ने जांच संभाली, उदयपुर की वारदात से एक सप्ताह पूर्व नुपुर शर्मा का समर्थन करने वाले पोस्ट का मामला

अमरावती (महाराष्ट्र) : अमरावती के 54 वर्षीय केमिस्ट उमेश प्रहलादराव कोल्हे की हत्या की जांच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दी है.  राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल तेली की हत्या से ठीक एक हफ्ते पहले, 21 जून को महाराष्ट्र के अमरावती जिले में हत्या कर दी गई थी.


अमरावती के डीसीपी विक्रम साली के अनुसार, कोल्हे की हत्या कथित तौर पर कन्हैयालाल की तरह ही भारतीय जनता पार्टी की नुपुर शर्मा का समर्थन करने वाली सोशल मीडिया पोस्ट के कारण की गई थी, जिन्होंने एक टीवी डिबेट में पैगंबर पर विवादित टिप्पणी की थी.
अमरावती
छठे आरोपी ने हत्या के लिए लोगों को उकसाया था

अमरावती पुलिस ने कोल्हे की हत्या के सिलसिले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. एक सातवां आरोपी अभी भी फरार है. छठा आरोपी एक पशु चिकित्सक युसूफ खान बहादुर खान (44) है, जो एक पशु चिकित्सा क्लिनिक चलाता है. पुलिस के अनुसार सोशल मीडिया के व्हाट्सएप ग्रुप पर नूपुर शर्मा का समर्थन करने वाले कोल्हे के पोस्ट के लिए खान ने आरोपियों को कोल्हे की हत्या के लिए उकसाया था.

शनिवार को पुलिस ने खान को मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश कर 4 जुलाई तक के लिए पुलिस कस्टडी में ले लिया है. बाइक सवार तीन में से वे दो आरोपी भी गिरफ्तार कर लिए गए हैं, जिन्होंने अपने स्कूटर से रात्रि में घर जा रहे कोल्हे को रास्ते में रोक कर उसके गले को चाकू से काट डाला था. यह घटना 21 जून की रात 10 से 10.30 बजे के बीच की बताई जाती है.

कोल्हे का गला काटने वाल शख्स सहित 5 पहले गिरफ्तार

इस हत्याकांड में गिरफ्तार अन्य आरोपियों में मुद्दसिर अहमद उर्फ सोनू राजा शेख (22) अबुजर मस्जिद के पीछे बिस्मिलाह नगर, शाहरुख पठान उर्फ बादशाह हिदायत खान (25) सुफियान नगर, नानू उर्फ अब्दुल तौफीक (24) इमाम हुसैन मस्जिद के पास, ललखाली, आतिफ रशीद (22) मौलाना आजाद नगर और शोहैब उर्फ भुरया खान छाया नगर शामिल हैं. पुलिस के अनुसार इनमें से शोहैब ने कोल्हे के गले को चाकू से काटा था.

उमेश कोल्हे के बेटे संकेत कोहले की शिकायत पर केस दर्ज

उमेश कोल्हे के बेटे संकेत कोहले की शिकायत के बाद अमरावती में सिटी कोतवाली पुलिस स्टेशन द्वारा प्रारंभिक जांच में उन्हें 23 जून को दो व्यक्तियों मुदसिर अहमद और 25 वर्षीय शाहरुख पठान को गिरफ्तार किया गया. उनसे पूछताछ में चार और लोगों की संलिप्तता का पता चला. जिनमें से तीन, अब्दुल तौफिक, 24, शोएब खान, 22, और अतिब राशिद, 22 को 25 जून को गिरफ्तार किया गया था. एक अन्य शमीम अहमद फिरोज अहमद फरार है.

पत्नी और बेटे के सामने हुई हत्या

घटना 21 जून को रात 10 बजे से 10.30 बजे के बीच हुई जब उमेश कोल्हे अपनी दुकान ‘अमित मेडिकल स्टोर’ बंद करके घर जा रहे थे. 27 वर्षीय संकेत और उनकी पत्नी वैष्णवी उनके साथ एक अन्य स्कूटर पर थे. संकेत ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया, ‘हम प्रभात चौक से जा रहे थे और हम स्कूटर से महिला कॉलेज न्यू हाई स्कूल के गेट पर पहुंच गए थे. इसी बीच मोटरसाइकिल पर सवार दो आदमी अचानक मेरे पिता की स्कूटी के सामने आ गए. उन्होंने मेरे पिता की बाइक रोक दी और उनमें से एक ने उनकी गर्दन के बाईं ओर चाकू से वार कर दिया. मेरे पिता गिर गए और खून बह रहा था. मैंने अपना स्कूटर रोका और मदद के लिए चिल्लाने लगा. एक अन्य व्यक्ति आया और तीनों मोटरसाइकिल पर मौके से फरार हो गए.

आरोपियों की एक अन्य आरोपी में भागने में की थी मदद

आसपास के लोगों की मदद से कोल्हे को पास के एक्सन अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. अमरावती शहर पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि अब तक गिरफ्तार किए गए पांच आरोपियों ने हमें बताया है कि उन्होंने एक अन्य आरोपी की मदद मांगी, जिसने उन्हें एक कार और भागने के लिए 10,000 रुपए मुहैया कराए.”

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि फरार आरोपियोंमें से एक शख्स ने हत्या के लिए अन्य पांच लोगों को यह काम सौंपा था. उसने उनमें से दो को कोल्हे पर नजर रखने और मेडिकल स्टोर से बाहर निकलने पर अन्य तीन को अलर्ट करने के लिए कहा था. अन्य तीनों ने कोल्हे को रोका और उसकी हत्या कर दी. संकेत की शिकायत के बाद सिटी कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

गलती से मुस्लिम सदस्यों वाले ग्रुप में शेयर कर दी थी पोस्ट

पुलिस के मुताबकि जांच के दौरान पता चला कि कोल्हे ने व्हाट्सएप पर नूपुर शर्मा का समर्थन करते हुए एक सोशल मीडिया पोस्ट मुस्लिम सदस्यों वाले एक ग्रुप पर संदेश पोस्ट कर दिया, जो उसके ग्राहक भी थे.

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एक ने कहा कि यह पैगंबर का अपमान है और इसलिए उसे मरना चाहिए. पुलिस ने हत्या को अंजाम देने वाला चाकू, मोबाइल फोन, वाहन और अपराध में इस्तेमाल किए गए कपड़े को जब्त कर लिया है और घटना स्थल से सीसीटीवी फुटेज हासिल कर ली है.

NO COMMENTS