60 हजार करोड़ तक पहुंच सकता है बैंक फ्रॉड : रिपोर्ट

0
115

एक विदेशी न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने हासिल किए आरटीआई के जरिए रिजर्व बैंक से यह आंकड़े

नई दिल्ली : पंजाब नेशनल बैंक में हुए फ्रॉड जैसी यह समस्या देश के लिए काफी गंभीर हो सकती है. पिछले पांच वित्तीय वर्ष से 31 मार्च, 2017 तक बैंकों में लोन फ्रॉड के 8,670 मामलों की शिकायत सामने आई है, जो कुल 60,000 करोड़ रुपए के हैं.

एक विदेशी न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने आरटीआई के जरिए भारतीय रिजर्व बैंक से यह आंकड़े हासिल किए हैं. रिजर्व बैंक के इन आंकड़ों के अनुसार बैंकिंग सेक्टर में हुए लोन फ्रॉड की रकम 11 हजार करोड़ से कई गुना ज्यादा है.

रॉयटर्स ने रिजर्व बैंक के आंकड़ों के आधार पर बताया कि बैंकिंग सेक्टर में बैड लोन के मामले पिछले साल कुल 149 बिलियन डॉलर तक पहुंचे चुके हैं. ताजा वित्तीय वर्ष में बैंक लोन फ्रॉड भी तेजी से बढ़कर 176.34 बिलियन रुपए तक पहुंच चुके हैं. डाटा के अनुसार, 2012-13 में यह आंकड़ा 63.57 बिलियन रुपए था, जिसमें पीएनबी फ्रॉड शामिल नहीं है.

हालांकि, रिजर्व बैंक ने इस रिपोर्ट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. लेकिन जून 2017 में केंद्रीय बैंक ने अपनी फाइनेंशियल स्टेबिलिटी रिपोर्ट में बताया कि वित्तीय संस्थाओं में फ्रॉड के मामले बड़ा रिस्क सेक्टर बनकर उभर रहे हैं.

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के पासपोर्ट सस्पेंड

इस बीच पीएनबी में 11,345 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के सामने आने के दो दिन बाद सरकार ने शुक्रवार को नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी के पासपोर्ट चार हफ्तों के लिए सस्पेंड कर दिए. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “प्रवर्तन निदेशालय की सलाह पर विदेश मंत्रालय के पासपोर्ट जारी करने वाली अथॉरिटी ने नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी के पासपोर्ट की वैलिडि़टी तत्काल प्रभाव से चार हफ्तों के लिए यू/ए पासपोर्ट अधिनियम 1967 के 10(ए) के तहत सस्पेंड कर दी है.”

बयान में कहा गया है, “नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी को एक हफ्ते के अंदर जवाब देने को कहा गया है कि पासपोर्ट अधिनियम 1967 की धारा 10 (3) (सी) के तहत उनका पासपोर्ट क्यों न रद्द कर दिया जाए. यदि वे निर्धारित समय के भीतर जवाब देने में नाकाम होते हैं तो यह माना जाएगा कि उनके पास प्रस्ताव का कोई जवाब नहीं है और विदेश मंत्रालय आगे की कार्रवाई करेगा.”

गीतांजली जेम्स के शेयर 20 व पीएनबी के 2 फीसदी गिरे

जूलरी कंपनी गीतांजलि जेम्स के शेयरों में शुक्रवार को करीब 20 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई और इस पर निचले स्तर का सर्किट लग गया. वहीं, पीएनबी के शेयरों में 2 फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज की गई. घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के मामा और बिजनेस पार्टनर मेहुल चोकसी द्वारा प्रमोटेड लग्जरी आभूषण ब्रांड गीतांजलि जेम्स के शेयरों में 19.94 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई और यह 37.55 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुआ. शुक्रवार को पीएनबी के शेयर 2.10 फीसदी की गिरावट के साथ 125.65 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुए, जो कि पिछले दिन से 2.70 रुपए कम है. गुरुवार को पीएनबी के शेयर 128.35 रुपए पर बंद हुए थे.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY